बागेश्वर- कौसानी में चार दिवसीय बुरांश महोत्सव का भव्य शुभारंभ , video

ख़बर शेयर करें –

Bageshwar News: पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वाधान में कौसानी में 03 से 06 जून तक चलने वाले चार दिवसीय बुरांश महोत्सव का शुभारंभ मुख्य विकास अधिकारी संजय सिंह, उपजिलाधिकारी राजकुमार पांडे, पर्यटन अधिकारी कीर्ति आर्या, ग्राम प्रधान बच्चन राम ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया।

बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए मुख्य विकास अधिकारी संजय सिंह ने कहा कि बुरांश हमारा राज्य पुष्प होने के साथ ही हमारी संस्कृति का प्रतीक है। बुरांश सौन्दर्य के साथ ही विभिन्न औषधि गुणों से भी भरपूर है, इसका जूस, स्क्वैश आदि भी शरीर को ठंडक प्रदान देने का काम करते है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में 14 प्रकार का बुरांश पाया जाता है, हमें इन्हें संजोए कर रखना है। बुरांश की नर्सरी विकसित कर इसे जंगलों व खेतों के किनारे अधिक से अधिक लगाया जाए, ताकि इसे और विकसित किया जा सके। उन्होंने पहली बार पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन द्वारा बुरांश महोत्सव कराये जाने को सराहनीय कदम बताया साथ ही कहा महोत्सव में पर्यटन व्यवसासियों व जन सहभागिता अति आवश्यक है, ताकि क्षेत्र में पर्यटकों की आमद बढने के साथ ही रोजगार सृजन भी हो सके।

इस दौरान उपजिलाधिकारी राजकुमार पांडे, थ्रीश कपूर व ग्राम प्रधान बच्चन राम ने अपने संबोधन में कहा कि ऐसे आयोजनों से क्षेत्र में पर्यटकों की संख्या बढेगी। उन्होंने बुरांश महोत्सव का सराहनीय बताते हुए इस महोत्सव में अन्य कार्यक्रम जैस बर्ड वाचिंग, स्टारगेजिंग, हैरिटेज वॉक, हॉट बाजार की भी सराहना की।

जिला पर्यटन अधिकारी कीर्ति आर्या ने बताया कि चार दिवसीय बुरांश महोत्सव में स्लाइड शो, बर्ड वॉचिंग, टी फेस्टिवल के तहत टी फैक्ट्री व टी गार्डन का भ्रमण, लक्ष्मी आश्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रम, अनासक्ति आश्रम परिसर में स्टागेजिंग, हॉट बाजार, प्रात: एवं सांय टै्रकिंग एवं हैरिटेज वॉक आदि कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जिला पर्यटन अधिकारी ने स्थानीय लोगों सहित पर्यटकों से अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर लाभ उठाने की अपील की।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now
Instagram Group Join Now

महोत्सव में होटल व्यवसायी विपिन उप्रेती, गणेश मेहरा, अनामय आश्रम के डा0 कुलदीप,अमित पॉल, उर्मिला श्रीवास्तव सहित स्थानीय जनता व पर्यटक मौजूद थे।

Leave a Reply