Uttarakhand: STF ने दो नकल माफिया दबोचे , वन आरक्षी परीक्षा में नकल कराने का था षड्यंत्र

ख़बर शेयर करें –

  • उत्तराखंड एसटीएफ की सतर्कता से नकल माफियाओं के नापाक मंसूबे हुए नाकाम।
  • . वन आरक्षी परीक्षा में नकल कराने का था षडयन्त्र, एसटीएफ ने पहले ही धर दबोचा

Dehradun News: उत्तराखंड में देश का सबसे सख्त नकल विरोधी कानून बनाया गया है। उसके बावजूद भी नकल माफिया वन आरक्षी परीक्षा में नकल कराने का षड्यंत्र रच रहे थे लेकिन एसटीएफ की सतर्कता के चलते नकल माफियाओं के मंसूबे नाकाम हो गए।

अपराध का तरीका–

एसटीएफ को गोपनीय सूचना प्राप्त हुई कि कुछ व्यक्तियों द्वारा जनपद हरिद्वार क्षेत्र में रविवार को होने वाली वन आरक्षी परीक्षा में शामिल होने जा रहे परीक्षार्थियों को धनराशि लेकर नकल कराने का प्रयास किया जा रहा है। जिस पर मुखबिर तन्त्र के माध्यम से जानकारी प्राप्त हुई कि उक्त व्यक्ति एम0एस0 कोचिंग सेन्टर का संचालक मुकेश सैनी है, जो कि पूर्व में भी नकल कराने के जुर्म में कई बार जेल जा चुका है, और एक कुख्यात नकल माफिया है। इस पर एस0टी0एफ0 की टीम द्वारा एम0एस0 कोचिंग सेन्टर के संचालक मुकेश सैनी के गुरूकुल नारसन में स्थित कोचिंग सेन्टर पर छापा मारा गया। जहाँ पर मुकेश सैनी व उसके साथी रचित पुण्डीर को गिरफ्तार किया गया।

एसटीएफ की सतर्कता से उपरोक्त षडयन्त्र को विफल कर अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया और उनके कब्जे से परीक्षा में नकल कराने हेतु प्रयोग की जाने वाली साम्रगी की बरामदगी एवं जनपद हरिद्वार के थाना मंगलौर में सुसंगत धाराओं में अभियोग दर्ज कराने की कार्यवाही प्रचलित है। मुकेश सैनी पूर्व में अनेक बार परीक्षाओं में नकल कराने के जुर्म में जेल जा चुका हैं। क्षेत्र में इसको नकल माफिया के नाम से जाना जाता है। नकल करके परीक्षा पास करने के इच्छुक अभ्यर्थी लगातार इसके सम्पर्क में रहते है। फरवरी 2020 में आयोजित वन आरक्षी भर्ती परीक्षा में इसके द्वारा अपने साथियों के साथ मिलकर बडे पैमाने पर नकल कराई गई थी, परन्तु अभ्यर्थियों के साथ बाद में समझौता कर मुकदमें से बरी हो गया था, जिससे इसके इरादे और मजबूत हो गये।

ऐसे बनाई योजना–

इसने पूर्व की भाँति इस बार भी वन आरक्षी परीक्षा में अपने साथी रचित पुण्डीर के साथ मिलकर नकल कराने की योजना बनाई। इसके लिये उसने लगभग 15 अभ्यर्थियों से लगभग 04 लाख रूपये प्रति अभ्यर्थी के हिसाब से तय किया था, जिसमें अग्रिम धनराशि के रूप में पचास हजार से एक लाख रूपये तक लिये गये तथा कुछ अभ्यर्थियों को परीक्षा में नकल के लिये ब्लुटूथ डिवाईस दे दी गई और उसके प्रयोग तरीका भी बता दिया गया।
रचित पुण्डीर हरिद्वार के एक कालेज में सहायक प्रोफेसर है। पूर्व में भी वन आरक्षी परीक्षा में प्रशन पत्र मुकेश सैनी को परीक्षा के दौरान भेजने के आरोप में जेल जा चुका है। रचित पुण्डीर ने आगामी वन आरक्षी परीक्षा में परीक्षा केन्द्र पर अपनी कक्ष निरीक्षक के पद पर ड्युटी लगवाने की तैयारी कर ली थी।

जहॅा से इसकी योजना परीक्षा के दौरान प्रशन पत्र को व्हाट्सअप व अन्य माध्यम से मुकेष सैनी को भेजने की थी। मुकेश सैनी द्वारा इस प्रशन पत्र को अपने साथियो के साथ मिलकर हल किया जाता एवं छात्रों को दी गई डिवाईस पर काँल करके उत्तर बताये।

गिरफ्तार अभियुक्त–

पकड़े गए आरोपियों की पहचान मुकेश सैनी पुत्र जल सिंह नि0 हरचन्दपुर, मंगलौर, हरिद्वार .रचित पुण्डीर पुत्र कुलवीर सिंह पुण्डीर नि0 ग्राम खंजरपुर रूडकी हरिद्वार के रूप में हुई उनका इन अभ्यर्थियों के साथ कनेक्शन था

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now
Instagram Group Join Now

प्रदीप पुत्र बाबूराम निवासी ग्राम नसीरपुर थाना मंगलौर उम्र 24 वर्ष
2 अभिषेक पुत्र अमलेश कुमार निवासी ग्राम नसीरपुर थाना मंगलौर
3 अंकुल पुत्र आनंद निवासी ग्राम रायसी थाना लक्सर जनपद हरिद्वार
उम्र 25 वर्ष
अन्य अभ्यर्थियों के सम्बन्ध में जानकारी की जा रही है।
..
आपराधिक इतिहास—

मुकेश सैनी

210/2016 धारा 420 भा0द0वि0 व 66घ आई0टी0 एक्ट थाना मंगलौर हरिद्वार
मु0अ0स0 32/2018 धारा 420 भा0द0वि0 थाना मंगलौर हरिद्वार
मु0अ0स0 141/20 धारा 420, 120बी भा0द0वि0 व 66घ आई0टी0 एक्ट थाना मंगलौर हरिद्वार
मु0अ0स0 164/2021 धारा 2/3 गैगंस्टर एक्ट थाना मंगलौर हरिद्वार
..
रचित पुण्डीर
1- मु0अ0स0 141/20 धारा 420, 120बी भा0द0वि0 व 66घ आई0टी0 एक्ट थाना मंगलौर हरिद्वार
2- मु0अ0स0 164/2021 धारा 2/3 गैगंस्टर एक्ट थाना मंगलौर हरिद्वार

बरामदगी–

ब्लूटूथ डिवाईस

पुलिस टीमः-
1- अपर पुलिस अधीक्षक चन्द्रमोहन सिह
2- पुलिस उपधीक्षक विवेक कुमार
3- निरी0 प्रदीप कुमार राणा
4- निरी0 अब्बूल कलाम
5- उ0नि0 दिलबर सिह नेगी
6- उ0नि0 याजवेन्द्र वाजवा
7- उ0नि0 उमेश कुमार
एवं समस्त एस0टी0एफ0 टीम
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा आम जनता से अपील की गई है कि यदि आयोग की आगामी परिक्षाओं में अनियमितता/नकल के सम्बन्ध में कोई भी जानकारी हो तो स्वॅय या मोबाईल के द्वारा सूचना दे सकता है जिनकी पहचान गोपनीय रखी जायेगी नम्बर- 01352651689 मेल आई0डी0- [email protected]*

Leave a Reply