Uttarakhand: गांव जा रहा परिवार हादसे का शिकार , तीन मासूम सहित 6 लोगों की मौत

ख़बर शेयर करें –

नैनीताल। नैनीताल जिले के लालकुआं कस्बे से यूपी में अपने पैतृक गांव जा रहा परिवार बलरामपुर जिले में सड़क हादसे का शिकार हो गया।
भीषण सड़क दुर्घटना में परिवार के 6 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। मृतकों की पहचान उत्तराखंड के नैनीताल जनपद के लालकुआं निवासी के रूप में हुई है।

आपको बताते चलें कि नैनीताल जिले के लालकुआं से 40 वर्षीय सोनू शाह अपनी पत्नी एवं अपने बच्चों सहित अपने गांव देवरिया जा रहे थे ग्राम वनकुल थाना श्रीरामपुर जिला देवरिया निवासी सोनू शाह की कार गोंडा उतरौला मार्ग पर स्थित देवरिया बिशंभरपुर के निकट सामने से आते भारी वाहन से टकरा गई कार में सवार सभी छह लोगों की मृत्यु मौके पर ही हो गई। घटना के बाद मौके पर पहुंचे ग्रामवासियों ने दुर्घटना में सभी कार सवारों को मृतक पाया तथा पुलिस को सूचना दी।

मौके पर पहुंची पुलिस ने कार चालक की जेब में कार्ड पाने के बाद उसकी पहचान की श्रीदत्तगंज के प्रभारी निरीक्षक विपुल कुमार पांडे गश्त पर थे कि उन्होंने क्षतिग्रस्त कार के पास पहुंचने पर उन्होंने देखा कि कार का अगला हिस्सा बिल्कुल ध्वस्त हो चुका है दुर्घटना ग्रस्तों को कार से निकालने के दौरान उन्होंने देखा कि सभी की मृत्यु हो चुकी है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आधार कार्ड में मिले फोन नंबर के आधार पर परिजनों को सूचना दी गई एवं शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया दुर्घटना की वजह कार चालक का नींद की झपकी में आकर किसी भारी वाहन ट्रक आदि से टकरा जाना संभावित है।

बताया जा रहा है सोनू शाह उम्र 27 वर्ष शुक्रवार की शाम को अपनी पत्नी पूजा देवी, 5 साल की पुत्री रुचिका, 3 साल का पुत्र दिव्यांशु, भाई रवि उम्र 21 वर्ष, बहन खुशी उम्र 12 वर्ष के साथ अपने पैतृक गांव ग़ालिबपुर देवरिया विशंभरपुर जा रहे थे।

शनिवार रात करीब ढाई बजे वे गांव के निकट श्रीदत्तगंज पहुंचे ही थे कि चालक को झपकी आ गई, और कार अज्ञात वाहन से टकरा गई, जिससे कार में सवार सभी छह लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। दुर्घटना इतनी भीषण थी कि कार का अगला हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। प्रातः गश्त पर जा रहे श्रीदत्तगंज के प्रभारी निरीक्षक विपुल कुमार पांडेय ने क्षतिग्रस्त वाहन को देखा, जिसके बाद हादसे की जानकारी मिल सकी। पुलिस ने कार में फंसे सभी लोगों को किसी तरह बाहर निकाला, लेकिन तब तक सभी की सांसे थम चुकी थीं।

Leave a Reply