उत्तराखंड- यहां बंद कमरे में मिले मां और तीन बच्चों के शव , जांच में जुटी पुलिस

ख़बर शेयर करें –

Bageshwar News: उत्तराखंड के बागेश्वर जिले से सनसनीखेज वारदात की खबर सामने आ रही है। यहां महिला और उसके तीन बच्चों के शव बंद कमरे में मिलने से हडकंप गया। पुलिस ने सभी शव कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी गई है वहीं महिला का पति फरार बताया जा रहा है।

घटनाक्रम के मुताबिक बंद मकान से दुर्गंध उठने के कारण शिकायत पर पहुंची पुलिस ने जब दरवाजा तोड़ा तो भीतर की स्थिति देख सभी के पैरों तले जमीन खिसक गई। वहां महिला और उसके तीन बच्चों (एक लड़की और दो लड़के) के शव पड़े थे। महिला का पति गायब मिला। इस पर हत्या का शक उसी पर किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि चारों के शव करीब एक सप्ताह पुराने हैं। घटना बागेश्वर जिले में सदर कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत घिरौली जोशीगांव की है।

मूल रूप से बागेश्वर जिले की कपकोट तहसील के शामा निवासी भूपाल राम घिरौली जोशीगांव में गोविंद बिष्ट के मकान में किराए पर रह रहा था। वहीं मकान स्वामी गोविंद बिष्ट देहरादून में रह रहे हैं। गुरुवार शाम कुछ युवक मकान की ओर पानी की लाइन ठीक करने पहुंचे। उन्हें वहां दुर्गंध का एहसास हुआ। इस पर देहरादून में रहने वाले गोविंद बिष्ट से संपर्क किया। उन्होंने कोतवाल कैलाश नेगी को फोन पर जानकारी दी।

पुलिस मौके पर पहुंची। दरवाजा तोड़ा गया। भीतर भूपाल राम की 35 वर्षीय पत्नी नीमा देवी, 14 वर्षीय बेटी अंजलि, आठ वर्षीय बेटा कृष्णा और छह माह के भास्कर के शव पड़े थे। पुलिस के मुताबिक, एक बिस्तर पर नीमा देवी का और कुछ दूरी पर अलग-अलग तीन बच्चों के शव थे।
ग्रामीणों के अनुसार जिस मकान में घटना हुई है, वह गांव के किनारे है। इस कारण वहां लोगों का आना-जाना कम ही होता है। ग्रामीणों ने बताया कि होली के दिन आठ मार्च से परिवार का कोई सदस्य नहीं दिखाई दिया। गुरुवार को शव मिलने से अनुमान लगाया जा रहा है कि ये हत्याएं होली के दिन की गई होगी। परिवार का मुखिया भूपाल राम मजदूरी और गाजे-बाजे का काम करता था। उस पर काफी कर्ज भी था। उसने पिछले कई माह से किराया भी नहीं दिया था। भूपाल राम के विरुद्ध 10 मार्च को ठगी का मुकदमा स्थानीय निवासी सीमा देवी ने कोतवाली में दर्ज कराया था।


Leave a Reply